Chanakya Ke 4 Shaktishali Baate - Niti

Chanakya Ke 4 Shaktishali Baate

दोस्तों जीवन में धेर्य और लगन वह गुन है जिसे अपना कर कोई भी इंसान महान काम कर सकता है, किसी भी चीज में सफलता पाने का ये बहुत ही जरुरी बात है |

https://www.shoutforhelps.com/


मैं आपको एक कहानी पके रूप में समझाना चाहूँगा |

यह बात तब की है जब चाणक्य बच्चो को तख्तथ सिला में पढ़ाते थे | उनका यह मानना था की बच्चो को थिउरी से ज्यादा बेव्हारिक ज्ञान दिया जाना चाहिए | जो उनके शिष्यों का ब्यक्तिव ज्ञान से निखर कर आयेगा | एक महान गुरु का महान सोच |

 जब गुरुकुल में सेशन खत्म होने वाला रहता है, छात्रों के अंतिम टेस्ट की बारी आ गई | इस अंतिम टेस्ट में आचार्य चाणक्य ने सभी छात्रों को एक बेत की टोकरी दी | 

और कहा गुरुकुल की साफ सफाई के लिए पानी की आवश्यकता है सभी छात्र इन टोकरियो में पानी भरकर लाये , यह बात सुनकर सभी छात्र चकरा गए की इस बेत की टोकरी में पानी भरना असंभव है मगर आपने गुरु का आदेश टालने की हिम्मत किसी में नहीं थी |

सभी छात्र नदी से जाकर उन टोकरियो में पानी भरने की कोसिस करते है लेकिन उस में पानी नहीं भर सके क्युकी उसमे से पानी निकल जाता, अन्त में  सभी छात्र गुरुकुल लौट गए सिवाय एक छात्र के उसे पूरा बिश्वास था की अगर आचार्य चाणक्य ने ये आदेश दिया होगा तो कुछ सोच समझ कर ही दिया होगा |

उसने अपने पुरे धेर्य और लगन के साथ सुबह से शाम तक पानी भरने का प्रयास करता रहा | आश्चर्य बेत सुबह से शाम तक पानी में रह कर फूल जाती है और उसके छेद भर जाते है | अन्त में उस छात्र ने पानी से भरी बेत की टोकरी लेकर आचार्य चाणक्य के पास पहुचता है |

तभी आचार्य चाणक्य सभी छात्रों से कहते है मैंने आपको बहुत ही मुस्किल भरा काम दिया था जिसे मात्र धेर्य, विवेक और निरन्तर प्रयास से ही किया जा सकता था | 

अतः जब भी कोई काम आपको असंभव प्रतीत हो तो धेर्य नहीं खोना चाहिए | निरन्तर प्रयास करते रहिये जित आपकी होगी |

दोस्तों आप इस अपना मूल मंत्र बनाइये अगर आप से कोई कहता है की आपके सपने असंभव है तो आप अपने कम को धेर्य और लगन से करिये आपको  कामयाबी जरुर मिलेगी |

और इसे आपने परिवार या दोस्तों के ग्रुप के जरुर शेयर करे |
Back To Top